India Politics

West Bengal News: भष्टाचार के मामले BJP सांसद अर्जुन सिंह को बंगाल CID का नोटिस, पूछताछ के लिए बुलाया

Written by Pradhyumna vyas
Loading...

West Bengal News: बंगाल में सीआईडी ने भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत एक मामले में बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह को नोटिस भेजा है। सीआईडी ने अपनी नोटिस में अर्जुन सिंह को 25 मई को कोलकाता में उनके सामने पेश होने को कहा है। नोटिस मिलने पर बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि सीआईडी के सामने पेश होने के लेकल मैं अपने वकील से सलाह लूंगा।

क्या है मामला

दरअसल ये मामला एक सहकारी बैंक से जुड़े कथित भ्रष्टाचार से जुड़ा हुआ है. साल 2018 में टीएमसी रहते वक्त अर्जुन सिंह इस बैंक के अध्यक्ष थे. अर्जुन सिंह तृणमूल कांग्रेस के चार बार विधायक रह चुके हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले पहले उन्होंने तृणमूल छोड़कर बीजेपी ज्वाइन की थी. वो बैरकपुर लोकसभा सीट से लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे.

CBI ने की हैं टीएमसी नेताओं की गिरफ्तारी

इससे पहले CBI ने बीते सोमवार को नारद स्टिंग ऑपरेशन के मामले में बड़ी कार्रवाई की. CBI ने TMC के नेता फिरहाद हाकिम, सुब्रत मुखर्जी और मदन मित्रा के साथ पार्टी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी को कोलकाता में गिरफ्तार कर लिया. बाद में स्पेशल कोर्ट में चारों आरोपियों की पेशी की गई, जहां कोर्ट ने चारों को अग्रिम जमानत दे दी थी. लेकिन CBI ने स्पेशल कोर्ट के फैसले को कलकत्ता हाईकोर्ट में चुनौती दी थी जिस पर हाई कोर्ट ने आरोपियों को जमानत देने पर रोक लगा दी थी

नारदा स्टिंग मामले के बाद बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस में राजनीतिक जंग शुरू हो गई है। गुरुवार को एक भ्रष्‍टाचार मामले में पश्चिम बंगाल CID ने BJP सांसद अर्जुन सिंह को नोटिस जारी किया है। सांसद को 25 मई को जांच एजेंसी के सामने पेश होने के लिए कहा गया है। इससे पहले पुलिस ने पिछले साल अर्जुन सिंह के उत्तर 24 परगना जिले के भाटपारा स्थित आवास पर छापा मारा था।

अर्जुन सिंह 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे और बैरकपुर लोकसभा सीट से जीत दर्ज की थी। दूसरी ओर, सिंह भ्रष्टाचार के आरोपों से इनकार करते रहे हैं। उनका कहना है कि सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस उनके खिलाफ प्रतिशोध की राजनीति कर रही है। सिंह तृणमूल कांग्रेस के चार बार विधायक रह चुके हैं।

Loading...

About the author

Pradhyumna vyas