entertainment Politics

Akshay Kumar की फिल्म Prithviraj के टाइटल पर करणी सेना ने जताई आपत्ति,

Loading...

राजपूत करणी सेना ने अक्षय कुमार की अगली फिल्म ‘पृथ्वीराज’ के शीर्षक पर आपत्ति जताई है. संगठन का कहना है कि यशराज फिल्म्स के बैनर तले बन रही फिल्म महान राजपूत राजा पर आधारित है लेकिन फिल्म का शीर्षक इस तथ्य को नहीं दर्शाता है और यह सिर्फ ‘पृथ्वीराज’ है जो अंतिम हिन्दू शासक का अपमान है.

राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष महीपाल मकराना ने सोमवार को कहा, ‘‘फिल्म निर्माता ने महान अंतिम हिन्दू शासक और राजपूत राजा पृथ्वीराज चौहान पर फिल्म बनाई है. फिल्म का नाम केवल पृथ्वीराज कैसे रखा जा सकता है? शीर्षक में पूरा नाम होना चाहिए.’’

मकराना ने कहा, ‘‘दिलीप सिंह के नेतृत्व में हमारी मुंबई की टीम ने चार दिन पूर्व मुंबई पुलिस के समक्ष शिकायत दर्ज कराकर मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है. पुलिस ने अभी तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की है.’

मकराना के नेतृत्व में करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने पिछले वर्ष मार्च में जयपुर के बाहरी इलाके में फिल्म ‘पृथ्वीराज’ की शूटिंग के दौरान भी बाधा खड़ी करने की कोशिश की थी।

उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि फिल्म पृथ्वीराज चौहान पर आधारित है, हम पटकथा के माध्यम से सुनिश्चित करना चाहते थे कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ कोई छेड़छाड़ न हो। फिल्म के निर्देशक ने हमें भरोसा दिया था कि फिल्म की पटकथा उपलब्ध करा दी जाएगी, लेकिन उसके बाद कुछ नहीं हुआ। उस समय निर्देशक ने फिल्म का शीर्षक नहीं बताया था। अब यह स्पष्ट है कि फिल्म का शीर्षक सिर्फ ‘पृथ्वीराज’ है जो राजा की महानता के साथ अन्याय है।’’

फिल्म का निर्देशन जाने-माने लेखक एवं निर्देशक चंद्रप्रकाश द्विवेदी ने किया है। इसमें वर्ष 2017 में विश्व सुंदरी का खिताब जीतने वाली मानुषी छिल्लर संयोगिता की भूमिका में हैं।

उन्होंने कहा, “चूंकि फिल्म पृथ्वीराज चौहान पर आधारित है, हम पटकथा के माध्यम से सुनिश्चित करना चाहते हैं कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। फिल्म के निर्देशक ने हमें भरोसा दिया है कि फिल्म की पटकथा उपलब्ध करवा दी जायेगी लेकिन उसके बाद कुछ नहीं हुआ। उस समय निर्देशक ने फिल्म का शीर्षक नहीं बताया था। अब यह स्पष्ट है कि फिल्म का शीर्षक सिर्फ ‘पृथ्वीराज’ है जो राजा की महानता के साथ अन्याय है।”

Loading...

About the author

Pradhyumna vyas