Featured

7 दिन पी लीजिए हींग का पानी, 8वें दिन शरीर में दिखेंगे ये बदलाव

Written by Yuvraj vyas

हींग या ऐसफेटिड… यह कोई साधारण या गुमनाम मसाला नहीं है। भारतीय रसोईयों में तो यह आपको आसानी से मिल जाएगा। इसे एक प्राचीन मसाले के रूप में जाना जाता है और यदि आप इतिहास के पन्नों को खंगाल कर देखेंगे तो आपको हींग के कई आयुर्वेदिक उपचार प्राप्त होंगे जिनसे अनगिनत रोग दूर भगाए जा सकते हैं।

हींग को किसी व्यंजन में शामिल करना भारतीय रसोईयों में सामान्य तौर से देखा जाता है। इसके अलावा कुछ आयुर्वेदिक उपचारों के अनुसार इसे किसे एविशेश तेल में या मिश्रण में मिलाकर शरीर पर लगाना भी लाभकारी माना गया है। हींग का अगला रूप है ‘हींग का पानी’। अब इसे पीने के क्या-क्या लाभ और निर्देश हैं, आइए जानते हैं….

प्राचीन समय में हींग को पानी में मिलाकर पेना एक गर्भनिरोधक उपचार माना जाता था। इसके अलावा इसे पेट रोगों का इलाज करने के लिए भी उपयोग में लाया जाता था और आज भी यह सिलसिला जारी है। हींग का पेस्ट बनाकर छाती और नाक के ऊपर और छिदों के पास लगाने से सर्दी-जुकाम दूर किया जाता था।

लेकिन हींग के पानी को पीने से क्या लाभ होता है यह आप तब ही जान सकेंगे जब आप इसे लगातार 7 दिनों तक पीयेंगे। सात दिन तक हींग का पानी पीने से बॉडी में जो पहला बदलाव आता है वह है पाचन शक्ति का मजबूत होना। हींग के पानी से बॉडी में बनने वाली एसिड खत्म हो जाती है और पेट के कई रोग आने से पहले ही समाप्त हो जाते हैं।

हींग का पानी मधुमेह रोगियों के लिए रामबाण इलाज है। इसके अलावा जिनके गुर्दे कमजोर हों उनके लिए भी हींग का पानी एक बेहतरीन घरेलू उपचार है। यह धीरे-धीरे गुर्दे को खराब करने वाले संक्रमण को काट देता है और मूत्र मार्ग से बाहर कर देता है।

About the author

Yuvraj vyas