चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम को शुक्रवार की रात चंद्र सतह पर उतरना था, लेकिन यह केवल सतह से 2.1 किमी की दूरी पर था। इसके बाद, सभी भारतीयों में निराशा थी, सभी भारतीय इसरो के वैज्ञानिकों की प्रशंसा कर रहे हैं और उनके प्रयासों को पूरी दुनिया में सराहा जा रहा है।

nasa chandrayaan 2 tweet

प्रधानमंत्री मोदी इस दौरान इसरो के मुख्य कार्यालय में भी मौजूद थे और उन्होंने वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित भी किया। उन्होंने कहा कि विज्ञान में केवल प्रयोग और प्रयास किए जाते हैं, विज्ञान में विफलता का कोई स्थान नहीं है।

Image result for chandrayaan 2

इसी तरह अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी एक बयान दिया है। उन्होंने इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई दी। नासा ने कहा कि मिशन एक बड़ी सफलता थी और अगले एक महीने के लिए, चंद्रयान 2 की परिक्रमा से चंद्रमा की ऐसी सभी तस्वीरें मिलेंगी, जो इसके कई अन्य रहस्यों को उजागर करेंगी। नासा ने इसरो के सभी वैज्ञानिकों की प्रशंसा की और उन्हें हार्दिक बधाई दी। ताजा खबरों के लिए हमें आगे फोटो खिंचवाने की जरूरत नहीं है।