India Politics

हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लगाई फटकार, कहा- सिस्टम सुधारिए, नही तो ….

Loading...

इस समय पूरा देश कोरोना वायरस (Coronavirus) के संकट से घिरा हुआ है. कायदे से इस महामारी को हमारे देश के अस्पतालों तक सीमित रहना चाहिए था लेकिन ये मामला अस्पतालों से निकल कर अदालतों में पहुंच गया और अब इस पर सरकारों से ज्यादा देश के जजों के फैसलों की चर्चा हो रही है. आज कल देश में हर रोज किसी ना किसी हाई कोर्ट या फिर सुप्रीम कोर्ट में कोरोना वायरस को लेकर सुनवाई चलती रहती है. आज कोरोना की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में थी और दिल्ली हाई कोर्ट में भी. सबसे पहले आपको दिल्ली हाई कोर्ट में हुई सुनवाई के बारे में बताते हैं. आज दिल्ली हाई कोर्ट ने एक नहीं, दो-दो बार दिल्ली सरकार को फटकार लगाई.

5 स्टार होटल में व्यवस्था क्यों?

पहला मामला दिल्ली के अशोका होटल का है. दिल्ली सरकार ने अपने एक आदेश में कहा था कि इस होटल में हाई कोर्ट के जजों, स्टाफ और उनके परिवार के लिये 100 कमरे कोविड हेल्थ Facility के तहत बुक किये गये हैं. इस पर हाई कोर्ट ने मीडिया Reports के आधार पर स्वत: संज्ञान लेते हुए दिल्ली सरकार से कहा कि उसने कभी ऐसा नहीं कहा कि ये सुविधाएं किसी Five Star Hotel में मिलनी चाहिए. यानी दिल्ली सरकार ने खुद अपनी तरफ से अशोका होटल को चुना और बयान कुछ इस तरह जारी किया, जिससे ये लगे कि दिल्ली हाई कोर्ट के अनुरोध पर इस होटल में 100 कमरे बुक किए गए हैं.

अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई, बेड और दवाओं की कमी को लेकर आज दिल्ली हाईकोर्ट में शनिवार को भी सुनवाई जारी है। इस दौरान कोर्ट ने दिल्ली सरकार को जमकर फटकारा है। वहीं, सुनवाई के दौरान दिल्ली के बत्रा अस्पताल ने हाईकोर्ट को बताया कि उनके यहां ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। बत्रा अस्पताल के अधिकारियों का कहना है कि हम आज सुबह 6 बजे से SOS में हैं, हमारे पास 307 मरीजौै भर्ती हैं, जिनमें से 230 ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं।

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि सब तनाव में हैं, यहां तक कि हम भी तनाव में हैं। हाईकोर्ट ने बत्रा हॉस्पिटल से कहा- आप डॉक्टर हैं, आपको अपनी नब्ज को पकड़ना होगा।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा है कि अगर आप सेना से अनुरोध करते, तो वे अपने स्तर पर काम करते। उनका अपना बुनियादी ढांचा है। दिल्ली में अधिक बुनियादी ढांचे की स्थापना के लिए सशस्त्र बलों की मदद लेने के सुझावों पर, दिल्ली सरकार के वकील ना कहा कि हम उच्चतम स्तर पर प्रक्रिया में हैं।सरकार इसे देख रही है। हम 15000 और बेड लेकर आ रहे हैं।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment