entertainment India

रामायण-महाभारत के ये कलाकार BJP के टिकट पर ‘सीता’ और ‘रावण’ के साथ ‘हनुमान’ पहुंचे थे संसद

Loading...

रामानंद सागर के 1987 के रामायण धारावाहिक में भगवान राम की भूमिका निभाने वाले अरुण गोविल गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। पश्चिम बंगाल और चार अन्य राज्यों में, राजनीतिक पंडित विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले पार्टी में ‘टीवी के राम’ को शामिल करना महत्वपूर्ण मानते हैं। गोविल को पार्टी में ऐसे समय में शामिल किया गया है जब पार्टी पश्चिम बंगाल में ‘जय श्री राम’ के नारे का उपयोग कर रही है। यह माना जाता है कि पार्टी हर घर में राम के रूप में पहचाने जाने वाले गोविल के आगमन से लाभान्वित हो सकती है।

यह पहली बार नहीं है कि भाजपा ने पार्टी में एक धार्मिक धारावाहिक के एक प्रमुख चरित्र को शामिल किया है। दिलचस्प तथ्य यह है कि रावण और गोविंदा दीपिका चिखलिया का सीता का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी भी ‘रामायण’ में भाजपा में शामिल हो चुके हैं। वहीं, द्रौपदी और कृष्ण भी भगवा पार्टी में प्रवेश कर चुके हैं।

दारा सिंह : रामानंद सागर की रामायण से घर-घर में हनुमान बनकर छाने वाले एक्टर दारा सिंह ने 2003 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में राज्यसभा के सांसद बने. दारा सिंह पहले ऐसे खिलाड़ी थे जो 2003 से 2009 के बीच राज्यसभा के सांसद रहे. 12 जुलाई 2012 में दारा सिंह इस दुनिया को अलविदा कह गए.

दीपिका चिखलिया : रामायण में सीता का किरदार निभाने वाली दीपिका चिखलिया वडोदरा से भाजपा की टिकट पर सांसद रहीं. दीपिका एक्टिंग और राजनीति दोनों में ही लंबी पारी नहीं खेल पाईं और अब वो अपनी फैमिली लाइफ में बिजी चल रही हैं.

नीतीश भारद्वाज : महाभारत में नीतीश भारद्वाज का निभाया श्रीकृष्ण का किरदार आजतक लोगों के मन में बसा हुआ है. नीतीश भारद्वाज ने भी भाजपा के टिकट पर 1996 में जमशेदपुर से चुनाव लड़ा और सांसद बने लेकिन उनकी बतौर नेता ये पारी ज्यादा लंबी नहीं चली. नीतीश ने अपनी एक्टिंग की पारी  दोबारा मराठी फिल्मों से शुरू की और अब वो इसी में सक्रिय हैं.

अरविंद त्रिवेदी: रामायण में निभाया गया रावण का किरदार आज भी लोगों को जेहन में हावी रहता है. 1991 में एक्टर अरविंद त्रिवेदी ने भाजपा के टिकट से गुजरात की सबरकाठा सीट से चुनाव लड़ा और सांसद बने. 1996 में अरविंद त्रिवेदी ने सक्रिय राजनीति से सन्यास ले लिया.

Loading...

About the author

Pradhyumna vyas

Leave a Comment