India

पुरानी कार खरीदने से पहले ध्यान दे इन बातो पर कार में आ सकती है ये समस्या

Loading...

कार खरीदना जितना मंहगा होता है कार का मेंटेनेंस उससे ज्यादा महंगा पड़ता है. कार खरीदते वक्त कंपनी उसका मेंटेनेंस शेड्यूल भी देती है. जिसमें कार की सर्विस से जुड़ी जानकारी दी गई होती है और आपको उसे फॉलो करना होता है. सही समय पर कार की सर्विस कराने से परफोर्मेंस और माइलेज दोनों पहले जैसा ही बना रहता है. अगर कार पुरानी हो गई है तो आपको सर्विस के साथ समय-समय पर उसका मेंटेनेंस भी करवाते रहना चाहिए. एक्सपर्ट्स की मानें तो हर 6 महीने या 1 साल में कार की सर्विस करा लेनी चाहिए. अगर आपकी कार 10,000 किलोमीटर तक चल जाए तो भी सर्विस जरूरी हो जाती है. हालांकि इसके बाद भी कभी भी कोई परेशानी आ सकती है.

1. कैसी कार लेनी है?
अगर आप बिना कुछ तय किए एक कार लेने जाएंगे तो हो सकता है आप एक ऐसी कार ले आए जो आपकी जरूरतों को पूरा ना करती हो। इसलिए जरूरी है कि सबसे पहले आप यह तय कर ले कि आपको कैसी कार लेनी है। कुछ ग्राहक सिर्फ एक हैचबैक कार लेना चाहते हैं, कुछ को एक फैमिली कार चाहिए तो कोई एसयूवी खरीदना चाहता है।

2. बजट कितना है?
दूसरी सबसे जरूरी चीज है आपका बजट। कार की खोजबीन करने से पहले अपनी जरूरत और पॉकेट के हिसाब से एक बजट तय कर लें। बिना बजट तय किए कार लेने से आप गलत ऑप्शन चुन सकते हैं। सेकेंड हैंड कारों का एक फायदा यह भी है कि आपको लगभग हर बजट में कार मिल जाती है।

3. कार की कर लें पूरी जांच
जब आपको कोई कार पसंद आ रही हो तो तुरंत डील फाइनल न करें। सबसे पहले कार की पूरी जांच पड़ताल कर लें। हो सतका है कार बाहर से तो बढ़िया दिख रही हो, लेकिन उसका इंजन उतना बढ़िया ना हो। कार को कम से कम 10 किमी. चलाकर देखें। अगर आपकी जान-पहचान का कोई मकैनिक है, तो उसे भी अपने साथ लेकर जाएं।

4. इन टेक्नीकल डीटेल्स पर भी दें ध्यान
कार का इंजन चेक कर लिया? अब उसके Odometer, Speedometer और दूसरी डीटेल्स को चेक कर लें। यह भी चेक करें कि कहीं ओडोमीटर के साथ कोई छेड़छाड़ तो नहीं की गई? कार की कीमत इस बात पर भी निर्भर करती है यह कितने किलोमीटर चलाई गई। कार के बॉडी स्क्रैच को भी चेक कर लें।

5. कार की हिस्ट्री का पता करें
कार की हिस्ट्री चेक ना करना भी एक ऐसी गलती है जिससे आपको बचना चाहिए। अगर आप कार को मारुति सुजुकी ट्रू वैल्यू या महिंद्रा फर्स्ट चॉइस जैसे एक ऑथराइज्ड सेलर से खरीद रहे हैं, तो आमतौर पर आपको कार के रिकॉर्ड दिखाए जाएंगे। लेकिन अगर आप एक व्यक्तिगत विक्रेता/मालिक से कार खरीद रहे हैं, तो कार हिस्ट्री के बारे में पूछें और सभी डॉक्यूमेंट को चेक करें, खासकर इसके कितने ऑनर रहे हैं। आप कार के इंश्योरेंस नंबर के जरिए इसके एक्सिडेंट क्लेम और दूसरे रिकॉर्ड भी जांच सकते हैं।

 

Loading...

About the author

Yuvraj vyas