India News Politics

पश्चिम बंगाल: नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी पर असदुद्दीन ओवैसी ने जमकर साधा निशाना, भाई-बहन में कोई अंतर नहीं है :

Loading...

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव जारी है. इसी बीच ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा है. असदुद्दीन ओवैसी ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, “ममता बनर्जी और पीएम नरेंद्र मोदी में कोई अंतर नहीं है. दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. दोनों भाई-बहन हैं जो अपनी टिप्पणियों से यहां की जनता को मूर्ख बनाने का काम कर रहे हैं.”

सभा के दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने ममता बनर्जी पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, “मैं टीएमसी से पूछना चाहता हूं कि उन्होंने 10 साल के अपने कार्यकाल में मुसलमानों के लिए क्या किया?” बता दें कि असदुद्दीन ओवैसी आसनसोल में एक सभा को संबोधित कर रहे थे, जिसमें बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे. इससे पहले भी एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने अपने समर्थकों से कहा कि अगर आज आप हरकत नहीं करेंगे तो आने वाली नस्लें कभी माफ़ नहीं करेंगी. रैली के मंच से ओवैसी ने कहा कि हमें इसलिए हरकत करना है ताकि जिंदा होने का सबूत देना है. अपने समर्थकों को जोश दिलाते हुए उन्होंने कहा कि हमें खामोशी को तोड़ना होगा और सन्नाटे को चीरना होगा. रैली के मंच से ओवैसी ने कहा, ”आपको इस मुल्क में गरजदार आवाज बनना है जैसे आसमान से बिजलियां गिरती हैं उस तरह तुमको मुत्तैहिदा (एक साथ) तौर पर अपनी इत्तेहाद (एकता) की ताकत बनकर और बिजली बनकर इस जमहूरियत को मजबूत करना है.”

बंगाल के आसनसोल में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि ममता बनर्जी और नरेंद्र मोदी में कोई अंतर नहीं है। दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। उन्होंने आगे कहा, ‘नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी भाई-बहन हैं, जो अपने बयानों से लोगों को मुर्ख बना रहे हैं।’

टीएमसी की अगुवाई वाली पश्चिम बंगाल सरकार की आलोचना करते हुए उन्होंने आगे कहा कि मैं टीएमसी को चुनौती देता हूं कि वे बताएं कि पिछले 10 वर्षों में उनकी सरकार ने मुसलमानों के लिए की क्या किया है। बता दें कि पश्चिम बंगाल में पहले चार चरणों का मतदान संपन्न हो चुका है।

पांचवें चरण में बंगाल की 45 विधानसभा सीटों पर 17 अप्रैल को चुनाव होने हैं। वहीं छठे चरण का चुनाव 22 अप्रैल को होगा। मतों की गिनती 2 मई को होगी। इस चुनाव में भाजपा और टीएमसी के बीच सीधी टक्कर दिख रही है, हालांकि, कई विश्लेषकों का मानना है कि वाम और कांग्रेस गठबंधन भी इस लड़ाई में है और मुकाबला त्रिकोणीय हो सकता है।

Loading...

About the author

Pradhyumna vyas

Leave a Comment