India Politics

डॉ. हर्षवर्द्धन करेंगे 8 राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक, महाराष्ट्र में रुका लोगों का टीकाकरण?

Loading...

महाराष्ट्र ने मंगलवार को घोषणा की कि वर्तमान में राज्य में 18 से 44 वर्ष की आयु के लोगों के लिए कोरोना टीकाकरण बंद किया जा रहा है क्योंकि शेष स्टॉक अब टीका की कमी के कारण 45 या अधिक लोगों की दूसरी खुराक के लिए दिया जाएगा। इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने यहां तक कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने भी उन्हें यही सलाह दी थी। हालाँकि, अब केंद्र सरकार ने स्पष्ट किया है कि डॉ। हर्षवर्धन ने महाराष्ट्र को ऐसी कोई सलाह नहीं दी है।

राजेश टोपे ने क्या कहा?
महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था, ‘मैंने खुद डॉ। हर्षवर्धन से बात की थी। उन्होंने मुझे बताया कि केंद्र सरकार के पास मूल रूप से वैक्सीन नहीं है। इसलिए उन्हें भी लगता है कि अब और कोई रास्ता नहीं है। हमें 18+ से 45+ के लिए उपलब्ध वैक्सीन देना होगा। 18 से 44 वर्ष की आयु के लोगों के टीकाकरण को ठीक किया जाना चाहिए क्योंकि टीका उपलब्ध नहीं है। हम विदेशों से भी वैक्सीन खरीदना चाहते हैं, लेकिन टीके नहीं हैं। ‘

राजेश टोपे ने कहा था कि राज्य सरकार वर्तमान में 45+ लोगों के लिए मरने के लिए 18+ के लिए खरीदे गए युकेन के 3 लाख उल्लंघन कर रही है। आंकड़ों के मुताबिक, 45 साल से अधिक उम्र के पांच लाख लाभार्थी राज्य में वैक्सीन की दूसरी खुराक का इंतजार कर रहे हैं।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ हर्षवर्धन आज उन राज्‍यों के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों के संग बैठक करेंगे जो कोविड टीकाकरण में पिछड़ रहे हैं. वैक्सीनेशन  को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री राज्यों के मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक में उनके साथ जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, बिहार, झारखंड, ओडिशा और तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री शामिल होंगे.

 

बता दें कि भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या ढाई 2 करोड़ के करीब तक पहुंच गई है. इनमें 37 लाख से ज्यादा मरीज अभी भी संक्रमित हैं. दुनिया में सबसे ज्यादा तेजी से केस हर दिन भारत में ही बढ़ रहे हैं.

 

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबकि पिछले 24 घंटों में 348,421 नए कोरोना केस सामने आए हैं और इश दौरान 4205 संक्रमितों की मौत हो गई है. हालांकि 3,55,338 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं.

Loading...

About the author

Yuvraj vyas