India News Tech

एटीएम से पैसे निकालने पर अब देना होगा ज्यादा शुल्क, जानिए कब से लागू होंगे नियम

Loading...

WhatsApp सहित दूसरे सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर ATM से तय सीमा से ज्यादा निकासी को लेकर एक दावा काफी शेयर हो रहा है. दावे में केंद्र सरकार को सवालों के घेरे में लेते हुए बताया गया है कि 1 जून से अगर आप बैंक की ओर से तय सीमा से ज्यादा बार ATM से कैश निकालते हैं तो 150 रुपये टैक्स के साथ 23 रुपये सर्विस चार्ज मिलाकर कुल 173 रुपये चार्ज के तौर पर वसूले जाएंगे.

हालांकि, पड़ताल में ये दावा गलत निकला, क्योंकि RBI की गाइडलाइन के मुताबिक सीमा से ज्यादा बार ATM से निकासी पर 20 रुपये से ज्यादा शुल्क नहीं वसूला जा सकता है. हमने कई बैंकों की वेबसाइट पर भी चेक किया और हमें इस तरह की कोई जानकारी नहीं मिली जो वायरल मैसेज में बताई जा रही है.

हालांकि, उपभोक्ता अपने बैंक के एटीएम से एक महीने में 5 बार मुफ्त ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसके अलावा दूसरे बैंक के एटीएम से भी वो 3 बार मुफ्त ट्रांजैक्शन मेट्रो शहर और 5 बार गैर-मेट्रो शहर में सकते हैं। RBI ने अपने नए दिशा-निर्देशों में सभी बैंकों को एटीएम ट्रांजैक्शन के लिए इंटरचेंज शुल्क बढ़ाने की अनुमति भी दी ही। नए नियमों के मुताबिक सभी केंद्रों पर हर एक फाइनेंसियल ट्रांजैक्शन के लिए अब इंटरचेंज फी के तौर पर 15 की जगह 17 रुपए देने होंगे। इसके साथ ही नॉन फाइनेंसियल ट्रांजेक्शन के लिए 5 की जगह 6 रुपए देने होंगे। यह व्यवस्था 1 अगस्त 2021 से लागू होगी।

परिपत्र के अनुसार, साथ ही एक अगस्त, 2021 से प्रति वित्तीय लेनदेन ‘इंटरचेंज शुल्क’ 15 रुपये से बढ़ाकर 17 रुपये तथा गैरवित्तीय लेनदेन के मामले में 5 रुपये से बढ़ाकर 6 रुपये करने की अनुमति दी गयी है.

बैंक अपने ग्राहकों की सुविधा के लिये एटीएम लगाते हैं. साथ ही दूसरे बैंकों के ग्राहकों को भी इसके जरिये सेवाएं दी जाती हैं. निर्धारित सीमा से अधिक उपयोग के एवज में वे शुल्क लेते हैं जिसे इंटरचेंज फी कहते हैं.

आरबीआई ने कहा कि एटीएम लगाने की बढ़ती लागत और एटीएम परिचालकों के रखरखाव के खर्च में वृद्धि को देखते हुए शुल्क बढ़ाने की अनुमति दी गयी है. इसमें संबंधित इकाइयों और ग्राहकों की सुविधाओं के बीच संतुलन की जरूरत को ध्यान रखा गया है.

Loading...

About the author

Yuvraj vyas