India News

आपके पीएफ खाते पर मिलता है 7 लाख रुपये का बीमा कवर, जानें क्या है इसकी शर्त और कैसे पाएं लाभ

Written by Yuvraj vyas
Loading...

नौकरीपेशा लोग कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) में निवेश करते हैं और बीमा योजना का लाभ भी प्राप्त करते हैं। कर्मचारी डिपॉजिटरी लिंक्ड इंश्योरेंस (EDLI) योजना के तहत सभी EPFO ​​सदस्यों को बीमा कवर की सुविधा प्रदान करता है। ईडीएलआई का लाभ लेने के लिए हर महीने वेतन का 0.5 फीसदी योगदान दिया जाता है। इसकी अधिकतम सीमा 15,000 रुपये तय की गई है। लेकिन, इस योजना की सबसे खास बात यह है कि कर्मचारियों को कोई अंशदान नहीं करना है। आइए जानते हैं कर्मचारी भविष्य निधि के तहत उपलब्ध इस बीमा योजना के बारे में..

ईडीएलआई योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी कर्मचारी को अलग से नामांकन करने की आवश्यकता नहीं है। यदि किसी कर्मचारी को ईपीएफ योजना के तहत लाभ मिल रहा है, तो वे ईडीएलआई योजना के लिए स्वतः नामांकित हो जाते हैं। कर्मचारी भविष्य निधि में तीन भाग होते हैं। एक है प्रोविडेंट फंड, दूसरा है कंपनी/नियोक्ता का योगदान जो कर्मचारी पेंशन योजना में जाता है और तीसरा हिस्सा ईडीएलआई में जाता है।

ईडीएलआई योजना के तहत उपलब्ध अधिकतम लाभ 7 लाख रुपये है। इस योजना के तहत न्यूनतम लाभ राशि 2.50 लाख रुपये है और यह कर्मचारियों के वेतन पर निर्भर नहीं करती है।

कम से कम 12 महीने काम किया हो

परिवार के पात्र सदस्यों को भी ईडीएलआई योजना के तहत बीमा का लाभ मिलता है। इसके लिए शर्त यह है कि कर्मचारी को लगातार कम से कम 12 महीने काम करना होगा। हालांकि, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कर्मचारी ने इन 12 महीनों के दौरान एक ही कंपनी में कई कंपनियों में काम किया है। ईडीएलआई योजना का लाभ नामांकित व्यक्ति, परिवार के पात्र सदस्य के लिए उपलब्ध है।

इस योजना के तहत बीमा के क्या लाभ हैं

इस योजना के तहत नामांकित या पात्र परिवार के सदस्य को अधिकतम 7 लाख रुपये का बीमा कवर मिलता है। बीमा कवर की राशि कर्मचारी के वेतन पर निर्भर नहीं करती है। हाल के संशोधन के बाद, बीमा राशि की गणना निम्न सूत्र के आधार पर की जाती है:

पिछले 12 महीनों का औसत वेतन X 35 + पिछले 12 महीनों के पीएफ बैलेंस का 50%। पिछले 12 महीनों में पीएफ बैलेंस की राशि 1,75,000 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। औसत वेतन में मूल वेतन और महंगाई भत्ता शामिल है। यह 15,000 रुपये से अधिक नहीं है। इस फॉर्मूले को लागू करने के बाद भी न्यूनतम लाभ 2,50,000 रुपये से कम नहीं हो सकता है।

आइए अब इसे एक उदाहरण की मदद से समझते हैं। मान लीजिए कि पिछले 12 महीनों में आपका औसत वेतन 18,000 रुपये है और इस अवधि के दौरान पीएफ बैलेंस 2 लाख रुपये है। ऐसे में आपको अधिकतम 7 लाख रुपये का लाभ मिलेगा। (१५,००० x ३५ + १,७५,०००)

इस बीमा के लाभों का दावा कैसे करें?

ईडीएलआई की इस योजना के तहत बीमा लाभ का दावा करने के लिए फॉर्म आईएफ भरना होगा। इसके अलावा सभी सपोर्टिंग डॉक्युमेंट्स भी जरूरी हैं। दावे के लिए आवेदन पत्र के सत्यापन के बाद आयुक्त द्वारा दावा राशि जारी की जाएगी। दावा राशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में भेजी जाएगी।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas