Featured Tech news

OTT प्‍लेटफॉर्म पर TRAI का फैसला ग्राहकों के लिए फायदेमंद, BIF ने की तारीफ

ओटीटी सेवाओं पर ट्राई का निर्णय एक दूरंदेशी दृष्टिकोण है;  बीआईएफ- इंडिया टीवी पाइसा के मुताबिक, उपभोक्ताओं को फायदा होगा
फोटो: फाइल फोटो

ओटीटी सेवाओं पर ट्राई का निर्णय एक दूरंदेशी दृष्टिकोण है; बीआईएफ का कहना है कि इससे उपभोक्ताओं को फायदा होगा

नई दिल्ली। दूरसंचार नियामक ट्राई के शीर्ष (ओटीटी) संचार सेवाओं को विनियमित नहीं करने का निर्णय ग्राहकों और आगे की सोच के हित में है। ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम (बीआईएफ) ने मंगलवार को इसका स्वागत किया और इसे क्षेत्र की प्रगति में एक सूत्रधार के रूप में वर्णित किया।

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने तत्काल आधार पर व्हाट्सएप, गूगल डुओ, मैसेंजर और वाइबर जैसी शीर्ष (ओटीटी) सेवाओं को विनियमित करने की संभावना को खारिज कर दिया है। ओटीटी प्लेटफॉर्म इंटरनेट का उपयोग करके कॉलिंग, मैसेजिंग, वीडियो कॉलिंग और मनोरंजन सामग्री प्रदान करते हैं। टेलीकॉम कंपनियां लंबे समय से अपने नियमन की मांग कर रही हैं।

ट्राई ने कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म की समग्र नियामक प्रणाली की सिफारिश करने का यह सही समय नहीं है। इससे टेलीकॉम कंपनियों को बड़ा झटका लगा है। बीआईएफ ने बीआईएफ के इस फैसले को ग्राहकों के आर्थिक विकास और हित में साहसिक और प्रगतिशील करार दिया। इसमें कहा गया है कि ट्राई ने इस क्षेत्र को विनियमित नहीं करने के लिए एक दूरंदेशी दृष्टिकोण अपनाया है, क्योंकि इन सेवाओं से बाजार को नुकसान होने का कोई स्पष्ट कारण नहीं है।

बीआईएफ ने कहा कि लॉकडाउन और कोविद -19 संकट के दौरान ऐसी सेवाओं की क्षमता और प्रभाव को दिखाया गया है। इससे लोगों के बीच संपर्क बनाए रखने और संचालन लगभग सामान्य रखने में मदद मिली है।





About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment