Health Lifestyle

चुकंदर के 5 फायदे, कब्ज, डायबिटीज और दिल के लिए फायदेमंद…

Loading...

चुकंदर गुणों से भरपूर है। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि चुकंदर के रस में नाइट्रेट होता है, जो मांस पेशियों में ताकत पैदा करता है। पहले के शोध से पता चला था कि आहार में नाइट्रेट को शामिल करने के कारण एथलीट की मांस पेशी में सुधार हुआ है। चुकंदर के रस, पालक और अन्य हरी सब्जियों जैसे अर्गुला और अजवाइन में मौजूद नाइट्रेट, शरीर में जाकर नाइट्रिक एसिड में परिवर्तित हो जाता है। यह पदार्थ रक्त कोशिकाओं को रिले करके चयापचय को लाभ पहुंचाता है। चुकंदर खाने से शरीर में खून की कमी नहीं होती है और आपका शुगर लेवल भी सही रहता है। चुकंदर में मौजूद आयरन, सोडियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस (चुकंदर के फायदे) न केवल आपके शरीर को ताकत देते हैं, साथी आपको बीमारियों से भी दूर रखते हैं।

1. एनीमिया से बचें: एनीमिया की बीमारी को ठीक करने के लिए चुकंदर का इस्तेमाल सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। चुकंदर में पर्याप्त मात्रा में लोहा, विटामिन और खनिज होते हैं, जो रक्त को बढ़ाने और शुद्ध करने का काम करते हैं। महिलाओं में एनीमिया का खतरा अधिक होता है। इसलिए महिलाओं को आहार में चुकंदर का सेवन करना चाहिए।

2. कब्ज दूर करे और वजन कम करे (Beetroot for constipation): चुकंदर में फाइबर होता है इसलिए यह कब्ज को दूर करने के लिए दवा के रूप में काम करता है। यह कब्ज दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है। इससे खाना भी जल्दी पचता है। चुकंदर कैलोरी में बहुत कम और एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर में उच्च होता है, जिससे आप आसानी से वजन कम कर सकते हैं।

3. ब्लड शुगर लेवल कम करें: चुकंदर में भरपूर मात्रा में नाइट्रेट होते हैं। जिसके कारण इसे खाने से नाइट्राइट और गैस नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल जाती है। ये दोनों चीजें हमारी धमनियों को चौड़ा करने और रक्तचाप को कम करने में मदद करती हैं।

 

4. खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करें: चकुंदर का सेवन दिल के दौरे की समस्या में भी फायदेमंद है। चुकंदर में फाइबर, फ्लेवोनोइड्स और बेटासैनिन की महत्वपूर्ण मात्रा होती है। इसलिए, इसका रंग लाल और बैंगनी है। यह एलडीएल कोलेस्ट्रॉल (चुकंदर के लाभ) को कम करने में मदद करता है।

5. ऊर्जा बढ़ाता है: चुकंदर खाने से ऊर्जा का स्तर बढ़ता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद नाइट्रेट तत्व धमनियों का विस्तार करने में मदद करता है।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment