Connect with us

Politics

भारत के सामने आई अब एक नई मुसीबत, 15 जिलों में हाई अलर्ट घोषित हुआ – जानिए

Published

on

आज हम आपको भारत के सामने आई एक नई मुसीबत के बारे में बताएंगे जिस पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी चिंता व्यक्त की है । तो आइए बिना देर किए बताते हैं आपको इस नई मुसीबत के बारे में –

भारत के सामने आई अब एक नई मुसीबत, 15 जिलों में हाई अलर्ट घोषित हुआ – जानिए

भारत के सामने आई अब एक नई मुसीबत, 15 जिलों में हाई अलर्ट घोषित हुआ - जानिए

भारत में अब एक नई मुसीबत आ गई है और यह नई मुसीबत भारत के इतने करीब है कि यह आज भारत में दस्तक देगी और इसी मुसीबत के कारण 15 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया है , दरअसल हम बात कर रहे हैं बुलबुल तूफान की. बुलबुल तूफान आज ओडिशा के तट से टकराएगा इस बीच मौसम विभाग ने ओडिशा में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का भी अलर्ट जारी किया है ।

बता दे आपको कि मौसम विभाग का कहना है कि तूफ़ान बुलबुल ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना प्रभाव छोड़ेगा और सिर्फ ओडिशा और पश्चिम बंगाल ही नहीं बल्कि ओडिशा के 15 जिले इसकी हद में आएंगे इसी के चलते मौसम विभाग ने इन 15 जिलों को हाई अलर्ट पर रख दिया है और जहां हाई अलर्ट भी प्रशासन की तरफ से घोषित कर दिया गया है । तूफ़ान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता जताई. इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रमुख सचिव डॉ. पीके मिश्रा ने ओडिशा, पश्चिम बंगाल और अंडमांड निकोबार द्वीप समूह के मुख्य सचिवों के साथ इस बाबत बैठक की ।

Also Read  कमलनाथ ने पीएम मोदी से की मुलाकात, बाढ़ के लिए केंद्र सरकार से मांगी मदद
Loading...
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Politics

उतरप्रदेश के सबसे ताकतवर आदमी को राम मन्दिर ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाना चाहता है राम जन्मभूमि न्यास

Published

on

अयोध्या मामले में एक दिलचस्प घटनाक्रम में, राम जन्मभूमि न्यास ने घोषणा की है कि वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को विश्वास दिलाना चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, राम मंदिर के निर्माण की देखरेख करेंगे। निकाय चाहता है कि आदित्यनाथ मुख्यमंत्री के रूप में नहीं बल्कि गोरक्षा पीठ के महंत की क्षमता पर भरोसा रखें।

“राम जन्मभूमि न्यास चाहता है कि योगी आदित्यनाथ ट्रस्ट का नेतृत्व करें। गोरखपुर में प्रतिष्ठित गोरखनाथ मंदिर, जो गोरक्षा पीठ से संबंधित है, ने राम मंदिर आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाई है। समाचार एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, महंत दिग्विजय नाथ, महंत अवैद्यनाथ और अब योगी आदित्यनाथ मंदिर आंदोलन के अभिन्न अंग रहे हैं, “महंत नृत्य गोपाल दास, जो न्यास के प्रमुख हैं।

दास ने कहा कि ट्रस्ट में शरीर एक प्रमुख भूमिका निभाएगा। “ट्रस्ट के अन्य सदस्य चम्पत राय (विश्व हिंदू परिषद के उपाध्यक्ष) और ओम प्रकाश सिंघल (वीएचपी कोषाध्यक्ष) हो सकते हैं।”

Image result for राम जन्मभूमि न्यास

2015 में VHP नेता अशोक सिंघल के निधन के बाद, Champat Rai ने VHP की गतिविधियों और उसके सभी फ्रंटल संगठनों का निरीक्षण किया।

इस बीच, महंत कमल नयन दास ने कहा, “राम मंदिर के निर्माण का कार्य महंत नृत्य गोपाल दास की देखरेख में होगा।” नयन दास गोपाल दास के उत्तराधिकारी हैं।

 

Image result for राम जन्मभूमि न्यास
“राम जन्मभूमि न्यास चाहता है कि योगी आदित्यनाथ ट्रस्ट का नेतृत्व करें। गोरखपुर में प्रतिष्ठित गोरखनाथ मंदिर, जो गोरक्षा पीठ से संबंधित है, ने राम मंदिर आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाई है। समाचार एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, महंत दिग्विजय नाथ, महंत अवैद्यनाथ और अब योगी आदित्यनाथ मंदिर आंदोलन के अभिन्न अंग रहे हैं, “महंत नृत्य गोपाल दास, जो न्यास के प्रमुख हैं।

Also Read  अहमदाबाद में बोले पीएम मोदी, गांधी आज हैं और कल भी होंगे

दास ने कहा कि ट्रस्ट में शरीर एक प्रमुख भूमिका निभाएगा। “ट्रस्ट के अन्य सदस्य चम्पत राय (विश्व हिंदू परिषद के उपाध्यक्ष) और ओम प्रकाश सिंघल (वीएचपी कोषाध्यक्ष) हो सकते हैं।”

Related image

2015 में VHP नेता अशोक सिंघल के निधन के बाद, Champat Rai ने VHP की गतिविधियों और उसके सभी फ्रंटल संगठनों का निरीक्षण किया।

इस बीच, महंत कमल नयन दास ने कहा, “राम मंदिर के निर्माण का कार्य महंत नृत्य गोपाल दास की देखरेख में होगा।” नयन दास गोपाल दास के उत्तराधिकारी हैं।

Loading...
Continue Reading

Politics

केंद्रीय कैबिनेट की सिफारिश के बाद महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन

Published

on

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय कैबिनेट की सिफारिश मंज़ूर करते हुए महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया है। इससे पहले राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राज्य में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करते हुए केंद्र को रिपोर्ट भेजी थी।
गौरतलब है, बीजेपी द्वारा असमर्थता जताने के बाद शिवसेना और एनसीपी भी दिए गए समय में सरकार बनाने में नाकाम रहे थे।

 

Also Read  अयोध्या फ़ैसले पर ये क्या बोल गए सलमान खान पिता, बोले हमारे लिए मस्जिद नहीं बल्कि...
Loading...
Continue Reading

Politics

4 साल में बनकर तैयार होगा राम मंदिर, 30 साल पहले ही तैयार हो गया था डिज़ाइन

Published

on

सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच के फैसले से राम मंदिर का रास्ता साफ हो गया है। ऐसी स्थिति में मंदिर का निर्माण कार्य तैयार किया गया है। विश्व हिंदू परिषद के सीईओ आलोक कुमार के अनुसार, मंदिर का निर्माण कार्य लगभग 4 वर्षों में पूरा हो जाएगा। पिछले दो दशकों से अयोध्या में मंदिर निर्माण पर एक कार्यशाला लगातार काम कर रही है।

ram mandir design

इसमें पहली और दूसरी मंजिल पर नक्काशीदार खंभे हैं। अब तक 1.25 लाख क्यूबिक फीट पत्थर पर नक्काशी की जा चुकी है। दूसरी मंजिल के लिए 1.75 क्यूबिक फीट पत्थर की आवश्यकता होगी। मंदिर की लंबाई लगभग 68 फीट होगी। जबकि इसकी चौड़ाई 140 फीट और ऊंचाई 128 फीट होगी।

Related image

मंदिर के डिजाइन के तहत इसके 5 ब्लॉक होंगे। जिसमें आगे का हिस्सा सामने होगा। जिसमें विशाल गेट तैयार किया जाएगा। इसके बाद सिंहेश्वर आएंगे। आगे जाकर, नित्यानंदम और गर्भगृह होगा। मंदिर परिसर में 8 फीट ऊंचा मंच भी होगा। राम मंदिर का यह डिजाइन 1989 में ही तैयार किया गया था। इसमें मंदिर के संबंध में सक्रिय संगठन शामिल थे।

Related image

मंदिर निर्माण कार्य से जुड़े अहमदाबाद के चंद्रकांत सोमपुरा के अनुसार, राम मंदिर के साथ चार और मंदिर बनाए जाएंगे। इनमें भरत, सीता, हनुमान और गणेशजी के मंदिर होंगे। जिसे रामलला के पास बनाया जाएगा। मंदिर दो मंजिला होगा। इसमें पहला रामलला मंदिर है और पहली मंजिल पर राम दरबार होगा। मंदिर नगाड़ा शैली में बनाया जाएगा, जिस पर विभिन्न भगवानों के खंभे तैयार किए जाएंगे।

Also Read  दिल्ली: आज से ऑड इवन शुरू, नियम तोड़ने पर कट गया चालान
Loading...
Continue Reading

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.