Featured

वास्तु के अनुसार इन चीजों को शयनकक्ष में रखने से पति-पत्नी में बढ़ता है मनमुटाव

Written by Yuvraj vyas

अगर घर का वास्तु खराब होता है तो कुछ न कुछ परेशानी बनी रहती है। इसलिए घर का वास्तु सही होना अत्यंत आवश्यक होता है। घर में किस चीज का निर्माण किस दिशा में किया गया है तो यह आवश्यक होता ही है साथ ही यह भी आवश्यक होता है कि सजावट करते समय कौन सी वस्तु कहां और कैस रखी गई है। गलत जगह रखी गई वस्तुएं भी वास्तु दोष उत्पन्न कर सकती हैं। जिससे आपको समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए घर के कमरों में रंगों का प्रयोग और किस वस्तु को कौन से स्थान पर रखना है इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए। शयन कक्ष घर का एक महत्वपूर्ण स्थान होता है। इस कमरे का वास्तु सही होना चाहिए, नहीं तो दांपत्य जीवन और उस कमरे में रहने वाले लोगों के जीवन में परेशानियां आने लगती हैं। चलिए जानते हैं कि शयनकक्ष में वास्तु को अनुसार चीजों को नहीं रखना चाहिए।

शयन कक्ष (सोने का कमरा) में वास्तु के अनुसार कुछ चीजों का रखना अशुभ माना गया है। जैसे झाड़ू, कड़ाही, हंसटा, कनस्तर, तवा, धारदार वस्तुएं और कूड़ेदान आदि को शयन कक्ष में नहीं रखना चाहिए। इससे उस कमरे में रहने वाले जातक के जीवन में परेशानियां बनी रहती हैं। अगर कोई शादी-शुदा व्यक्ति उस कमरे में रहता है तो उनके दांपत्य जीवन में परेशानियां आती हैं।

अगर आपकी दांपत्य जीवन में कलह चल रही हैं तो भूलकर भी अपने शयनकक्ष में कोई नुकीला शोपीस न पाए। सजावट के लिए कांटेदार पौधा भी कभी शयन कक्ष में नहीं लगाना चाहिए। इससे दांपत्य जीवन में मनमुटाव बढ़ता है। अगर आपके कमरे में ऐसी कोई वस्तु नहीं है तो उसे तुरंत हटा देना चाहिए।

वास्तु के अनुसार ख़राबोनिक चीज़ों में नकारात्मकता लाती हैं। इसलिए घर के किसी भी कमरे या शयन कक्ष का पंखा, एसी आदि कोई भी उपकरण खराब हो जाए तो उसे तुंरत सही करवाना।) इसी तरह से टूटी-फूटी चाजों को भी नकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है। इसलिए शयन कक्ष में टूटा हुआ फोटो फ्रेम आदि नहीं लगाना चाहिए।

कुछ लोग शयनकक्षों में ताजमहल की तस्वीर या शोपीस रखते हैं लेकिन कभी भी ताजमहल की तस्वीर या शोपीस नहीं रखना चाहिए। वास्तु में इसे अशुभ माना गया है। इसी तरह से पति-पत्नी को अपने कमरे में कभी भी लड़ाई झगड़े या गुस्से में दृश्यों की तस्वीर नहीं लगाना चाहिए। इससे दँपत्य जीवों में दूरियाँ आती हैं।

About the author

Yuvraj vyas