Featured

लखनऊ-जयपुर और मुंबई जैसे रूट पर हवाई सफर करने वालों के लिए खुशखबरी, सस्ती होगी टिकट और बचेगा समय

विमानों में सफर करने वालों को जल्द ही बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है. दरअसल इंडियन एयर फोर्स ने लंबी चर्चा और कई बैठक के बाद भारतीय एविएशन सेक्टर को बड़ी राहत दी है. इंडियन एयरफोर्स अपने रिजर्व एयर स्पेस में से 10 फीसदी एयर स्पेस सिविल एयरलाइंस के लिए खोलने के लिए तैयार हो गया है. IAF के इस कदम के बाद करीब एक दर्जन से ज्यादा रूट पर हवाई सफर छोटा हो जाएगा. इसके साथ-साथ फ्लाइंग कॉस्ट और हवाई सफर में समय भी कम लगेगा. बता दें इस ऐलान के बाद लखनऊ से जयपुर और मुंबई से श्रीनगर जैसे रूट पर हवाई सफर में कम समय लगेगा और टिकट के दाम भी कम होने के आसार है.

कितनी होगी समय की बचत?
CNBC आवाज की एक्सक्लूसिव खबर के मुताबिक, हवाई सफर के दौरान अब 14 मिनट से लेकर कम से कम आधे घंटे तक के समय की बचत होगी. यानी आपको पहले की तुलना में अब सफर करने में कम समय लगेगा.

किन रूटों पर दिखेगा इस फैसले का असर?
लखनऊ से जयपुर और मुंबई से श्रीनगर, श्रीनगर से मुंबई, श्रीनगर से दिल्ली, दिल्ली से श्रीनगर, बागडोवरा से दिल्ली, दिल्ली से बागडोवरा जैसे रूट पर हवाई सफर में अब कम समय लगेगा.

कितनी कम होगी फ्लाइंग कॉस्ट?
बता दें इंडियन एयर फोर्स के इस कदम के बाद एक रूट पर प्रति फ्लाइट करीब 40 हजार रुपए तक लागत कम होने की संभावना है. इसके अलावा आने वाले दिनों में सरकार और ज्यादा रिजर्व एयर स्पेस को खोलने की तैयारी कर रही है.

जानिए एयरलाइन कंपनियों को क्या होगा फायदा
1. सूत्रों के मुताबिक, एयरफोर्स ने सिविल फ्लाईट के लिए एयरस्पेस खोला गया.
2. कुल रिजर्व स्पेस का 10% एयरस्पेस खोला गया
3. करीब 1 दर्जन रूट पर हवाई सफर होगा छोटा होगा.
4. मुंबई-श्रीनगर, लखनऊ-जयपुर, दिल्ली-श्रानगर, बागडोगरा-दिल्ली रूट शामिल हैं.
5. कुल नेशनल एयरस्पेस में करीब 3 से 4% की बढ़ोतरी होगी.
6. करीब 40 हजार रु प्रति फ्लाईट तक लागत में कमी आएगी.
7. फ्लाईंग कॉस्ट में कुल 1 हजार करोड़ रु कटौती का लक्ष्य है.

आत्मनिर्भर भारत पैकेज में वित्त मंत्री ने किया था ऐलान
सरकार का लक्ष्य है कि एयरलाइन कंपनियों की लागत सालाना कम से कम एक हजार करोड़ रुपए तक कम हो जाए. बता दें इसका ऐलान आत्मनिर्भर पैकेज के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किया था, लेकिन कई बैठकों और चर्चा के बाद इंडियन एयरफोर्स इस फैसले पर तैयार हो गया है.

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment