Featured

रोने के बाद क्यों होने लगता है भयंकर सिरदर्द, यहां जानें दोनों के बीच क्या है कनेक्शन

Written by Yuvraj vyas

बहुत लोगों को तो रोने के बाद तेज सिरदर्द भी होने लगता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि रोने और सिरदर्द के बीच क्या कनेक्शन है? आखिर क्यों रोने के बाद होता है सिरदर्द यहां जानें।

अगर आप बहुत ज्यादा इमोशनल व्यक्ति नहीं हैं, तब भी कभी ना कभी, किसी ना किसी बात पर आपको भी रोना आ ही जाता होगा। रोना बेहद नैचरल सी बात है और हम सब दुखी होने पर या किसी और को दुखी देखकर या फिर कई बार तो कोई इमोशनल फिल्म देखकर भी आंसू बहाने लगते हैं। अपने इमोशन्स को व्यक्त करने का एक नैचरल तरीका है रोना। लेकिन रोने के बाद सिर्फ आंख या नाक से ही पानी नहीं आता, बल्कि कई बार आंखों में भी सूजन आ जाती है, आंखें लाल हो जाती हैं और बहुत लोगों को तो रोने के बाद तेज सिरदर्द भी होने लगता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि रोने और सिरदर्द के बीच क्या कनेक्शन है?

रोते वक्त स्ट्रेस हॉर्मोन कॉर्टिसोल होता है रिलीज
वैज्ञानिकों की मानें तो जब कोई व्यक्ति रोता है तो उसके इमोशन्स बेहद स्ट्रॉन्ग होते हैं और रोने के साथ-साथ हम स्ट्रेस और ऐंग्जाइटी में भी आ जाते हैं। रोने के दौरान शरीर में जो इमोशन्स की बाढ़ सी आती है उसकी वजह से शरीर से स्ट्रेस हॉर्मोन कॉर्टिसोल रिलीज होने लगता है। इस दौरान ब्रेन में न्यूरोट्रांसमिटर्स उत्तेजित होते हैं जिससे सिर में दर्द होने लगता है। हालांकि यहां ध्यान देने की बात ये है कि अगर आप खुशी में आंसू बहाएं तो आपको सिरदर्द नहीं होगा। लेकिन अगर आप नेगेटिव इमोशन्स की वजह से रोएं तभी आपको सिरदर्द महसूस होगा। जब प्याज काटते वक्त आपकी आंखों से आंसू आता है या फिर जब आप खुशी में आंसू बहाते हैं तब भी आपको सिरदर्द नहीं होता।

रोने के बाद जो सिरदर्द होता है उसे हम 3 कैटिगरी में बांट सकते हैं-
1. टेंशन की वजह से सिरदर्द
यह सबसे कॉमन सिरदर्द है। इसमें रोने के बाद सिर में मौजूद मांसपेशियां टाइट हो जाती हैं और उनमें खिंचाव आ जाता है। इस वजह से सिरदर्द के साथ-साथ गर्दन और कंधे में भी दर्द महसूस होने लगता है।

2. माइग्रेन वाला सिरदर्द

माइग्रेन के दौरान होने वाला सिरदर्द सामान्य सिरदर्द से बिलकुल अलग होता है क्योंकि इसमें व्यक्ति को पूरे सिर में नहीं बल्कि सिर के किसी एक साइड में ही भयंकर दर्द होने लगता है। साथ ही साथ उल्टी आना, जी मिचलाना और लाइट को देखकर बहुत ज्यादा सेंसिटिविटी फील होना जैसी दिक्कतें भी होने लगती हैं। आपको रोने के बाद माइग्रेन वाला सिरदर्द तभी होगा जब आपको माइग्रेन की दिक्कत पहले से हो।

3. साइनस वाला सिरदर्द
हमारी आंखें, नाक, कान, गला सबकुछ अंदर से एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। ऐसे में अगर आपको साइनस की दिक्कत है तो लंबे समय तक रोने के बाद आपके साइनस के पैसेज में भी असर पड़ सकता है। जब आंसू और म्यूकस बनने लगता है जो आपके सिर खासकर माथे पर प्रेशर बढ़ने लगता है जिससे आपको सिरदर्द होता है।

सिरदर्द को दूर करने के उपाय
– कुछ देर के लिए किसी शांत और अंधेरे कमरे में आराम करें।
– आंखों पर गर्म या ठंडा पैक रखें
– अदरक वाली चाय पिएं
– बहुत सारा पानी पिएं
– सिरदर्द की कोई कॉमन दवा खा लें
– मैग्नीशियम से भरपूर चीजें खाएं

About the author

Yuvraj vyas