Featured Politics

मोदी-ट्रंप राज में 3 अमेरिकी ऑटो कंपनियों ने भारत से समेटा कारोबार!

भारत में हार्ले-डेविडसन के दीवानों के लिए एक बुरी खबर है। अमेरिकी कंपनी हार्ले-डेविडसन ने भारत में अपना प्रोडक्शन और सेल्स ऑपरेशन बंद करने की घोषणा की है। दरअसल, बिक्री घटने और मुनाफा कम होने से कंपनी ने भारत में कारोबार बंद करने का फैसला लिया है।

अमेरिका की दिग्गज बाइक निर्माता कंपनी हार्ले डेविडसन ने अपने खर्चों में 75 मिलियन डॉलर की कटौती की योजना बनाई है, जिसमें वह भारत में मैन्युफैक्चरिंग बंद कर रही है। कंपनी अपने कारोबार को हाउसठित करने जा रही है। हरियाणा के बावल में हार्ले डेविडसन का असेंबली प्लांट है, जिसे अगस्त 2009 में शुरू किया गया था।

हार्ले डेविडसन ने एक बयान जारी करते हुए कहा है कि वह कुछ आंतरिक ग्रहों से बाहर निकलने के साथ वह भारत में अपनी ब्रिकी और विनिर्माण कार्यों को बंद कर रही है। दो महीने पहले ही हार्ले डेविडसन ने संयुक्त राज्य अमेरिका की तरह अधिक लाभदायक मुख्य विमानों में वापस ध्यान केंद्रित करने की रणनीति का खुलासा किया था।

पिछले कुछ वर्षों में लगातार भारत में हार्ले-डेविडसन बाइक की डिमांड घटी है। अगर वित्तीय वर्ष 2019 की बात करें तो भारत में हार्ले-डेविडसन बाइक्स की बिक्री का आंकड़ा 2500 यूनिट्स से काफी कम है।

दरअसल, इस साल कोरोना महामारी और औटो सेक्टर में जारी संदेह के बीच अप्रैल से जून के बीच कंपनी केवल 100 बाइक ही बेच पाई गई। भारतीय बाजार में 10 साल पहले कदम रखने वाली हार्ले डेविडस निवेश के बावजूद अपनी पकड़ बनाने में नाकाम रही।

भारत में हार्ले-डेविडसन का असेंबली प्लांट बंद होने से भारत में मौजूद बाइक की डीलरशिप को अब बाइक थाईलैंड से इम्पार्ट चाहिए। थाईलैंड से मंगाने की कीमतों में भारी उछाल देखने को मिलेगी। क्योंकि आयात करने पर इम्पोर्ट ड्यूटी भी भरनी पड़ेगी, जिससे मकान बढ़ जाएंगे।

डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति पद संभालने के बाद से हार्ले-डेविडसन भारत में परिचालन बंद करने वाली अमेरिका की तीसरी वाहन निर्माता कंपनी है। इससे पहले जनरल मोटर्स ने अपने घरेलू परिचालन को समेट कर 2017 में अपने गुजरात प्लांट को बेच दिया था। इसके अलावा पिछले साल फॉक्स ने अपने कारोबार को समतते हुए अपनी सबसे संपत्तियां महिंद्रा और महिंद्रा के साथ जॉइंट वेंचर को ट्रांसफर कर दी थी।

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment