Featured

महाराष्ट्र में घर खरीदना होगा सस्ता, डिस्काउंटेड रेट पर होगी मकानों की रजिस्ट्री

कोरोना काल में रीयल एस्टेट सेक्टर को स्पीड देने के मकसद से महाराष्ट्र सरकार ने हाउसिंग यूनिट पर स्टाम्प ड्यूटी घटाने का फैसला किया है। 26 अगस्त को हुई कैबिनेट की एक बैठक में इसका फैसला किया गया कि हाउसिंग यूनिट पर लगने वाली 5 फीसदी स्टाम्प ड्यूटी को कुछ समय के लिए घटाकर 2 फीसदी किया जाए। सूत्रों के अनुसार यह व्यवस्था 31 दिसंबर 2020 तक के लिए होने की संभावना है। इतना ही नहीं, 1 जनवरी से 31 मार्च तक स्टाम्प ड्यूटी 3 फीसदी रखे जाने की बात भी सूत्रों के हवाले से सामने आ रही है। यानी पुरानी व्यवस्था अगले साल अप्रैल से या यूं कहें कि नए वित्त वर्ष से लागू हो सकती है।

uddhav thackeray

स्टाम्प ड्यूटी घटाने से क्या होगा फायदा?
रीयल एस्टेट डेवलपर्स लगातार सरकार से मांग कर रहे थे कि स्टाम्प ड्यूटी घटाई जाए, ताकि घर खरीदार प्रॉपर्टी खरीदने के लिए आकर्षित हो सकें। CREDAI नेशनल के चेयरमैन जक्षय शाह ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार के इस कदम से ग्राहकों को फायदा होगा और घर खरीदार भी प्रॉपर्टी के लिए आकर्षित होंगे। उन्होंने कहा कि घरों की मांग बढ़ने के साथ-साथ नौकरियां भी पैदा होंगी। शाह बोले कि जब-जब स्टाम्प ड्यूटी में कटौती की गई है, इससे सरकार की आय भी बढ़ी है, क्योंकि डिमांड काफी बढ़ गई है।

अन्य राज्यों में भी कम हो सकती है स्टाम्प ड्यूटी
महाराष्ट्र सरकार ने हाउसिंग यूनिट पर स्टाम्प ड्यूटी कम कर के एक ऐसा सिलसिला शुरू किया है जो काफी लंबा चल सकता है। दरअसल, स्टाम्प ड्यूटी कम होने की वजह से घर खरीदारों के कुछ पैसे बचेंगे, जिसे देखते हुए वह घर खरीदने का मन बना सकते हैं और इससे रीयल एस्टेट सेक्टर में तेजी आएगी। बाकी राज्य भी कोरोना काल में सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था और रीयल एस्टेट में तेजी लाने के लिए स्टाम्प ड्यूटी में कटौती का सहारा ले सकते हैं।

कुछ समय पहले ही की थी 1 फीसदी की कटौती
महाराष्ट्र में अभी मुंबई, पुणे, नागपुर और नासिक जैसे बड़े शहरों में स्टाम्प ड्यूटी 5 फीसदी है, जबकि बाकी शहरों में ये ड्यूटी 6 फीसदी है। अगर इसमें 2-3 फीसदी की कटौती होती है तो इससे घर खरीदारों के काफी पैसे बचेंगे। बता दें कि 6 मार्च को ही महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई, एमएमआरडीए रीजन और पुणे के लिए प्रॉपर्टी पर लगने वाली स्टाम्प ड्यूटी में 1 फीसदी की कटौती की थी।

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment