Politics

बड़ी खबर LIVE : किसी को खबर तक न लगी, और मोदी पहुंच गए लद्दाख

चीन के साथ सीमा गतिरोध (India China Rift) और चीनी सेना  के साथ वार्ता के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) शुक्रवार सुबह लेह लद्दाख (Leh Ladakh) पहुंचे. प्रधानमंत्री मोदी ने लेह के नीमू फॉरवर्ड पोस्ट पर अधिकारियों से बात की और सुरक्षा हालात का जायजा लिया.  पीएम मोदी के साथ इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत भी मौजूद रहे. प्रधानमंंत्री ने इस यात्रा के दौरान सैनिकों से बातचीत भी की.

प्रधानमंत्री के कार्यालय (PMO) की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक, ‘फिलहाल पीएम मोदी नीमू के एक फॉरवर्ड लोकेशन पर हैं. यहा वो तड़के सुबह ही पहुंच गए थे. यह जगह 11,000 की ऊंचाई पर स्थित है. यह इलाका सिंध नदी के किनारे पर और जांस्कर रेंज से घिरी हुई बहुत ही दुर्गम जगह है.’

नीमू दुनिया की सबसे ऊंची और खतरनाक पोस्ट में से एक माना जाता है.अचानक पीएम मोदी के इस दौरे ने हर किसी को चौंका दिया. पहले इस दौरे पर सिर्फ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत को ही आना था.

सेना प्रमुख भी रहे पीएम मोदी के साथ

पीएम मोदी की यात्रा के दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे उनके साथ हैं. इस दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पीएम के साथ नहीं हैं. 15 जून को लद्दाख में हुई झड़प के बाद सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति के एक सदस्य की यह पहली यात्रा है, जहां चीनी सैनिकों के साथ आमने-सामने की लड़ाई में 20 सैनिक शहीद हुए थे.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा लेह की यात्रा रद्द करने के कुछ ही दिन बाद पीएम लेह दौरे पर गए हैं. सूत्रों का कहना है कि सरकार इसका इंतजार कर रही थी कि चीनी सेना कमांडर स्तर की तीन दौर की वार्ता के दौरान किये गये वादों पर खरा उतरेगी या नहीं. इसके बाद ही रक्षा मंत्री का दौरा होगा.

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ चल रहे तनाव के बीच प्रधानमंत्री का यह दौरा कई मायनों में अहम है. उन्होंने अभी पिछले महीने के आखिरी रविवार को ही अपने रेडियो प्रोग्राम में ‘मन की बात’ में कहा था कि लद्दाख में हुई झड़प का चीन को उचित जवाब दे दिया गया है. इसके दो दिन के अंदर भारत ने चीन के 59 ऐप्स को बैन कर दिया. बैन हुए ऐप्स में टिकटॉक, शेयरइट जैसे ऐप भी शामिल हैं, जो भारत में लोकप्रिय हैं. यही नहीं, पीएम मोदी ने बुधवार को चीनी ऐप वीइबो भी छोड़ दिया था.

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment