Featured

बुरे वक्त के दौर से गुजर रहे हैं, तो घर में लाकर रख दीजिए ऊंट की मूर्ति

अगर आप बुरे वक्त के दौर से गुजर रहे हैं, तो घर में फेंग्शुई गैजेट ऊंट की स्थापना करें। यह आपको परेशानियों से निजात दिलाएगा। क्या हैं इसके उपयोग और विशेषताएं, आइए जानें:

समझदार वही है, जो बुरे दिनों के लिए पहले से तैयार रहता है। बात चाहे रुपए-पैसे की हो या स्वास्थ्य की, आर्थिक तंगी से निपटने के लिए हम नियमित बचत करते हैं तो बीमारी, रोग आदि के लिए मेडिकल इंश्योरेंस करवाते हैं। यह बताने की जरूरत नहीं कि ये सब चीजें बुरे समय में हमारे कितनी काम आती हैं। आज हम फेंग्शुई के जिस गैजेट के बारे में बता रहे हैं, वह न सिर्फ बुरे समय में हमारे लिए सहायता का काम करता है, बल्कि उसकी स्थापना हमें आने वाली विपदा व दुर्भाग्य से भी बचाती है।  यह गैजेट है फेंग्शुई ऊंट। जिस तरह यह जानवर विलक्षण क्षमताओं वाला है, उसी प्रकार फेंग्शुई गैजेट के रूप में भी इसके प्रभाव विलक्षण हैं। ऊंट एकमात्र ऐसा जानवर है, जो विपरीत परिस्थितियों में कई दिनों तक बिना खाए-पीए रहकर भी अपने सवार को उसकी मंजिल तक पहुंचाने का माद्दा रखता है। आइए जानते हैं इस गैजेट के उपयोग और कुछ और विशेषताओं के बारे में- 

अगर आपके परिवार में आए दिन कोई न कोई बीमार रहता है या परिवार के किसी सदस्य को बीमारी, दुर्घटना आदि का खतरा बना रहता है, तो यह गैजेट निश्चित रूप से उसके लिए सहायक साबित हो सकता है। 

 यही नहीं, हमारी आधी से अधिक चिंताओं और परेशानियों की वजह होती है आर्थिक समस्या। आपको अपने निवेश का उचित प्रतिफल मिले और आपके पास कैश फ्लो यानी नगद की आवक बनी रहे, इसके लिए फेंग्शुई ऊंट को घर के उत्तर-पश्चिम में स्थापित करना चाहिए। 

कुछ विशेषज्ञों का ऐसा भी मानना है कि निवेश को सुरक्षित बनाने और उससे अधिकतम लाभ पाने के लिए ऊंट का जोड़ा स्थापित करना चाहिए। 

अगर आपका पैसा कहीं फंसा हुआ है और वह आपको सही समय पर प्राप्त नहीं हो रहा है या आप नगदी की समस्या से जूझ रहे हैं तो डबल यानी दो कूब वाले ऊंटों के जोडे़ को घर में स्थापित करें। 

घर ही नहीं, आफिस में भी इसे स्थापित करना आर्थिक तरक्की दिलाता है। यह आपके व्यापार के रिस्क को कम करता है, आपके निवेश को सुरक्षित बनाता है तो चुनौतियों का सामना करने की क्षमता भी प्रदान करता है। घर की तरह ऑफिस में भी इसे उत्तर-पश्चिम दिशा में ही स्थापित करना चाहिए।

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment