Politics

प्रवासी मजदूरों के लिए योगी आदित्यनाथ ने किया शानदार काम, नदेश में बना ऐसा करने वाला पहला राज्य

Loading...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को प्रवासी राहत मित्र ऐप लॉन्च किया जिसका उद्देश्य उत्तर प्रदेश में अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी नागरिकों को सहायता प्रदान करना है ताकि वे सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकें। ऐप उनके कौशल से संबंधित नौकरियों और आजीविका प्रदान करने के अलावा उनके स्वास्थ्य की निगरानी करने में भी मदद करेगा।

इन प्रवासी नागरिकों का डेटा संग्रह उस एप्लिकेशन के माध्यम से किया जाएगा जो राज्य के राजस्व विभाग द्वारा संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के सहयोग से विकसित किया गया है।

सरकार के प्रवक्ता के अनुसार, सरकार के विभिन्न विभागों द्वारा सूचनाओं के आदान-प्रदान से इन प्रवासी नागरिकों के रोजगार और आजीविका के लिए कार्यक्रमों की योजना बनाने और तैयार करने में मदद मिलेगी।

ऐप में आश्रय केंद्र में रहने वाले व्यक्तियों और प्रवासियों का पूरा विवरण होगा जो दूसरे राज्यों से सीधे अपने घरों में पहुंच गए हैं।

व्यक्ति की मूल जानकारी जैसे नाम, शैक्षिक योग्यता, अस्थायी और स्थायी पता, बैंक खाता विवरण, कोरोना-संबंधी स्क्रीनिंग स्थिति और अनुभव को ऐप में लिया जाएगा। इसमें 65 से अधिक प्रकार के कौशल का विवरण एकत्र किया जाएगा।

प्रवासी नागरिकों को राशन किट के वितरण की स्थिति भी ऐप में दर्ज की जाएगी।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई डेटा दोहराव नहीं है, अद्वितीय मोबाइल नंबर को आधार बनाया जाएगा। इस ऐप की एक और खासियत यह है कि यह ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन भी काम कर सकता है।

इसके अलावा, प्रभावी निर्णय लेने के लिए ऐप में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के लोगों के डेटा को भी अलग किया जा सकता है। डेटा संग्रह विकेंद्रीकृत स्तर पर किया जाएगा, जैसे कि आश्रय स्थल, पारगमन बिंदु, व्यक्ति का निवास।

ऐप के माध्यम से एकत्र किए गए डेटा को राज्य-आधारित एकीकृत सूचना प्रबंधन प्रणाली पर स्थापित किया जाएगा।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment