Featured

दूध में मिला कर करें गोंद कतीरा का सेवन, सालों साल बनी रहेगी जवानी, दूर होंगे ये रोग

Written by Yuvraj vyas

गोंद कतीरे का प्रयोग कब्ज दूर करने, स्तन में वृद्धि, त्वचा रोग, शीघ्रपतन आदि से छुटकारा पाने में मदद करता है। इसे रोजाना खाने से शरीर में क्‍या क्‍या लाभ होते हैं यहां जानें…

gond katira ayurvedic benefits for male sexuality weight loss, skin, hairदूध में मिला कर करें गोंद कतीरा का सेवन, सालों साल बनी रहेगी जवानी, दूर होंगे ये रोग

आयुर्वेद में ऐसी कई जड़ी बूटियां हैं जो मनुष्‍य के पूरे स्‍वास्‍थ्‍य को पल भर में चंगा कर सकती है। आज हम गोंद कतीरा के बारे में बात करेंगे, जो पेड़ से निकलने वाला एक पीले रंग का गोंद है। यह छूने में चिपचिपा, बदबूदार और बेस्‍वाद होता है। इसकी तासीर ठंडी होती है इसलिये इसका सेवन गर्मियों में करना बेहद लाभकारी माना जाता है। गोंद कतीरे का प्रयोग कब्ज दूर करने, स्तन में वृद्धि, त्वचा रोग, शीघ्रपतन से छुटकारा या फिर प्रसव के बाद लगने वाली कमजारी आदि के लिये किया जाता है। यही नहीं अगर किसी को हृदय रोग का खतरा है तो वह भी इसके प्रयोग से दूर हो जाता है। आइये यहां जानें इसके कुछ खास लाभ-

​दूर करे कमजोरी

गोंद कतीरा में ढेर सारा प्रोटीन और फॉलिक एसिड पाया जाता है। इसके सेवन से शरीर को तुरंत ताकत मिलती है। इसे खाने से खून गाढ़ा होता है। 20 ग्राम गोंद कतीरा को एक गिलास पानी या फिर दूध में भिगो कर रखें और फिर सुबह मिश्री मिलाकर शर्बत बनाकर पिएं।

​मासिक धर्म करे नियमित

यदि किसी महिला के मासिक धर्म अनियमित हैं तो गोंद कतीरा और मिश्री को साथ में पीस कर 2 चम्‍मच दूध में मिला कर सेवन करें। इसके अलावा गोंद के लड्डू भी बना कर खाए जा सकते हैं। यही नहीं बच्‍चा होने के बाद भी गोंद के लड्डू खाने पर कमजोरी और माहवारी की गड़बड़ी भी ठीक हो जाती है।

​वजन घटाए

गोंद कतीरा शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ाता है। इसमें पाया जाने वाला हाई फाइबर कंटेंट आपको अधिक समय तक भरा रखती है। इसके अतिरिक्त यह एक गट हेल्‍थ में भी सुधार करने के लिए जाना जाता है। इसका उपयोग करने के लिये एक चम्मच गोंद कतीरा रात भर एक गिलास पानी में भिगो दें। इसके बाद, एक गिलास दूध में शहद / गुड़ (थोड़ा) के साथ सेवन करें। वजन कम करने के लिए हर दिन इस टॉनिक को पिएं।

​पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाए

गोंद कतीरा के सेवन से पुरुषों में खोई हुई यौन इच्‍छा बढ़ जाती है। इसके अलावा अनैच्छिक डिस्चार्ज या नाईट डिस्चार्ज को रोकने में मदद करता है। इसका सेवन करने के लिये रात के समय 10 ग्राम गोंद कतीरा को 1 गिलास पानी में भिगो दें। फिर अगली सुबह इसमें 1 चम्‍मच चीनी मिला कर इसका सेवन करें। इसका सेवन दिन में तीन पर ठंडे पानी के साथ कर सकते हैं।

​टान्सिल में राहत

यदि आप हर वक्‍त टॉन्‍सिल से परेशान रहते हैं तो 2 भाग कतीरा और 2 भाग नानख्वा को बारीक पीस लें। फिर इसमें हरी धनिया की पत्‍ती का रस मिलाएं और रोजाना इसे गले पर लेप करें। इससे आपको जल्‍द ही आराम मिलेगा। यही नहीं अगर आपके पास साधन न हो तो लगभग 10 से 20 ग्राम गोंद कतीरा पानी में भिगोकर फुला लें और फिर इसे मिश्री मिले शर्बत में मिलाकर सुबह-शाम पिएं।

​मुंह के छाले के लिए गोंद कतीरा

अल्सर के कारण होने वाली सूजन, लालिमा और दर्द को कम करने के लिए इस उपाय को आजमाएं: गोंड कतीरा का बारीक पिसा हुआ पेस्ट बनाएं और तुरंत राहत के लिए अपने छालों पर लगाएं।

​ब्रेस्ट का आकार बढ़ाए

यदि कोई महिला अपने ब्रेस्‍ट के आकार से संतुष्‍ट नहीं है तो वह गोंद कतीरा का सेवन कर सकती है। गोंद कतीरा को रोज खाने से महिलाओं के स्तनों के आकार को बढ़ाने में मदद मिलती है। इसका सेवन करने के लिये रात भर में एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच गोंद कतीरा भिगोएं। अगली सुबह इस फूली हुई गोंद कतीरा के साथ मिश्री मिला कर सेव करें।

​लू और हीट स्‍ट्रोक से बचाए

यदि आपके हाथ और पैरों में जलन होती है तो गोंद कतीरा के 2 चम्‍मच लेकर उसे 1 गिलास पानी में सोने से पहले भिगो दें। जब यह फूल जाए तब इसे चीनी में मिक्‍स कर के खाएं। इसे शर्बत के तौर पर भी दिन में दो बार लिया जा सकता है। यह गर्मी में लगने वाली लू और हीट स्‍ट्रोक से बचाता है।

​गोंद कतीरा के साइड-इफेक्ट्स और एतियात

  • गोंद कतीरा का सेवन करने से पहले अपने शरीर को पूरी तरह से हाइड्रेट रखें। इससे नसें और आंत ब्‍लॉक होने से बचेंगी।
  • इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। इसकोा खाया भी जा सकता है और लगाया भी।
  • यह उन लोगों में सांस लेने की समस्या पैदा कर सकता है, जिन्हें क्विलिया की छाल (सोपबर्क) से एलर्जी है, इसलिए इसका सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं डॉक्‍टर की सलाह से इसका सेवन कर सकती हैं।
  • सलाह दी जाती है कि आप किसी भी एलोपैथिक दवा का सेवन करने से कम से कम एक घंटे पहले इस जड़ी बूटी का सेवन करें।

About the author

Yuvraj vyas