Politics

दिल्ली हिंसा पर असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी से पूछा ये बड़ा सवाल

Loading...

शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ मुस्लिम महिलाएं 15 दिसंबर से धरने पर बैठी हैं। इन महिलाओं की मांग है कि सरकार नागरिकता संशोधन कानून को वापस ले। इस धरने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल भी दायर की गई है जिसपर सर्वोच्च अदालत सोमवार को सुनवाई करेगी। वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने चार महीने के बच्चे की मौत के मामले पर स्वत: संज्ञान लिया है। चार महीने के बच्चे को उसकी मां अपने साथ लेकर विरोध प्रदर्शन में गई थी। शाहीन बाग से लौटने के बाद इस मासूम की सोते समय मौत हो गई थी।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर सोमवार को नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में दो गुटों के बीच हुई ताजा झड़प ने ऐसा हिंसक मोड़ लिया कि सात लोगों की मौत हो गई। दिल्ली के जाफराबाद-मौजपुर के इलाकों में सोमवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष हुआ और प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों व वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया था।

हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने दिल्ली हिंसा पर आरोप लगाया है कि मोदी चुप हैं। उन्होंने रविवार को कहा कि मैं प्रधानमंत्री मोदी से पूछता हूं कि वो अपने घर से कुछ दूरी पर हुई हिंसा के बारे में क्यों नहीं बोल रहे हैं। ओवैसी ने कहा कि इस दंगे में 40 लोग मारे गए हैं। ऐसे में पीएम को इस मुद्दे पर बोलना चाहिए। ओवैसी ने आरोप लगाया कि ये हिंसा भाजपा नेताओं के बयानों की वजह से हुई।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment