Featured khet kisan

दालों की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, मसूर दाल के आयात शुल्क में 20 प्रतिशत की कटौती

दालों (दालों) की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। घरेलू बाजार में दालों की उपलब्धता बढ़ाने के लिए, सरकार ने मसूर दाल के आयात शुल्क में 20 प्रतिशत की कटौती की है। यह कटौती अक्टूबर के अंत तक लागू रहेगी। जून 2017 की अधिसूचना में केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क यानी CBIC (केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड) की अधिसूचना में संशोधन किया गया है। तदनुसार, दाल पर मूल सीमा शुल्क 18 सितंबर 2020 से 31 अक्टूबर 2020 तक की अवधि के लिए कम कर दिया गया है।

10 प्रतिशत आयात शुल्क

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका के अलावा अन्य देशों से मसूर पर आयात शुल्क 30 प्रतिशत से घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया है। अमेरिका से मसूर के आयात के मामले में, शुल्क पहले के 50 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत कर दिया गया है। सरकार ने इससे पहले जून में अमेरिका के अलावा किसी भी देश से आने वाले खेप के लिए आयात शुल्क को घटाकर 10 प्रतिशत कर दिया था। अमेरिका के मामले में, सीमा शुल्क 50 प्रतिशत से 30 प्रतिशत तक लाया गया था।

भारत सबसे बड़ा आयात करने वाला देश है

सीमा शुल्क की कम दर 2 जून से 31 अगस्त 2020 तक की अवधि के लिए लागू रही, जिसके बाद सीमा शुल्क को 1 सितंबर से पुराने स्तर पर बहाल कर दिया गया। बता दें कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा उपभोक्ता और दालों का आयातक है। सरकार के अनुमान के अनुसार, फसल वर्ष 2019-20 (जुलाई-जून) के दौरान देश का कुल दाल उत्पादन 23.3 मिलियन टन रहा, जबकि पिछले वर्ष यह 21.2 मिलियन टन था।

उत्पादन में गिरावट का पूर्वानुमान

इसमें से मसूर दाल का उत्पादन घटकर 11.8 लाख टन रहने का अनुमान है, जो वर्ष 2018-19 में 12.3 लाख टन था। सरकार के कदम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, भारतीय दलहन और अनाज संघ के उपाध्यक्ष बिमल कोठारी ने पीटीआई से कहा कि सरकार की एक स्थिर आयात नीति होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विदेशी किसानों और व्यापारियों को जून में शुल्क कटौती से लाभ हुआ, क्योंकि भारत द्वारा आयात शुल्क कम करने के बाद दालों की वैश्विक कीमतें बढ़ गईं।

बिमल कोठारी ने कहा कि घरेलू मांग को पूरा करने के लिए, देश ने पिछले वित्त वर्ष में लगभग 2.5 मिलियन टन दालों का आयात किया और उसमें से 8.5 लाख टन दाल थी। उन्होंने चालू वित्त वर्ष में मसूर दाल के आयात को बढ़ाकर 1 मिलियन टन करने का अनुमान लगाया है, हालांकि कुल मिलाकर 2 मिलियन टन की कमी हो सकती है।

 

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment