Featured Politics

गेहूं, चीनी और चिकन को तरसेगा पाकिस्तान! चीन भी नहीं दे पा रहा साथ

Written by Yuvraj vyas

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान महंगाई की मार से त्रस्त है. बेकाबू महंगाई ने आवाम के लिए दाल-रोटी भी मुश्किल की हुई है. सब्जियों की महंगाई, दूध के बढ़ते दाम और पेट्रोल-डीज़ल की मार से पहले ही लोग परेशान थे. अब गेहूं और चीनी के दाम भी सातवें आसमान पर पहुंच रहे हैं. गेहूं के दाम ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. पाकिस्तान में 1 किलो गेहूं का दाम 60 रुपए तक पहुंच गया है. आमतौर पर यह भाव 20-22 रुपए प्रति किलो रहता है. पाकिस्तान के इतिहास में गेहूं का यह सबसे ऊंचा रेट है.

पाकिस्तान मीडिया में छपी खबर के मुताबिक, पाकिस्तान सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी दाम को 2400 रुपए प्रति 40 किलो के नीचे नहीं रख पाई है. पिछले साल दिसंबर में भी गेहूं के दाम तेजी से बढ़े थे. लेकिन, इस साल अक्टूबर से ही हालात काबू से बाहर हैं. रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि दिसंबर तक हालात और बिगड़ सकते हैं. अनाज एसोसिएशन ने सरकार से अपने लिए फंड मांगा है. इसके पीछे उसका तर्क है कि वक्त पर फसल पैदा होने से दाम में कटौती आएगी. हालांकि, सरकार की तरफ से अभी कोई आश्वासन नहीं मिला है. 



About the author

Yuvraj vyas