Business Coronavirus update

खुशखबरी: कोरोना वायरस की वजह से इन सभी वस्तुओं के दाम में आई भारी कमी

आपको बता दें कि कोरोनावायरस की वजह से पूरा देश लड़ रहा है तथा सरकार इन्हें रोकने के लिए हर एक प्रयास कर रही है दोस्तों आपको बता दें कि कोरोनावायरस की वजह से भारत में बहुत सारी चीज सस्ते हो गए हैं चलिए आपको बताते हैं।

दोस्तों कोरोनावायरस के कारण देश में मास्क और हैंड सैनिटाइजर की मांग बढ़ गई है। मांग बढ़ने के कारण इसकी कालाबाजारी शुरू हो गई है और कीमत कई गुना बढ़ चुकी है। ऐसे में उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने ट्वीट कर कहा कि हैंड सैनिटाइजर की 200 मिलीमीटर की बोतल की खुदरा कीमत 100 रुपए से ज्यादा नहीं होगी।

अन्य आकार की बोतलों की कीमत भी इसी अनुपात में रहेंगी। ये कीमतें 30 जून 2020 तक पूरे देश में लागू रहेंगी। आवश्यक वस्तु अधिनियम के अंतर्गत 2 और 3 प्लाई मास्क में प्रय़ोग होने वाले फैब्रिक की कीमत वही रहेगी जो 12 फरवरी 2020 को थी। 2 प्लाई मास्क की खुदरा कीमत 8 रुपए और 3 प्लाई की कीमत 10 रुपए से ज्यादा नहीं होगी।शुरुआती दिनों में मास्क तथा सेनीटाइजर्स के दाम लगातार आसमान छू रहे थे उनका कालाबाजारी चल रहा था लेकिन सरकार ने इस फैसले से इसके सही दाम का निर्धारण किया है जिसे लोग काफी खुश हैं।

दोस्तों आपको बता दें कि इसके अलावा सोने तथा चांदी के दाम में भी भारी कमी देखी गई है तथा पेट्रोल तथा डीजल के दाम में भी कमी देखी गई है वही खाने वाली वस्तुओं की कीमत लगातार बढ़ रही है क्योंकि आपूर्ति नहीं हो पाने की वजह से दाम में बढ़ोतरी हो रही है।

बीते दिनों उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने मास्क और हैंड सैनिटाइजर को जरूरी उत्पादों की लिस्ट में शामिल किया था। CORONA VIRUS के फैलने के साथ इन दोनों उत्पादों की कमी और कालाबाजारी के कारण यह कदम उठाया गया था। जरूरी उत्पाद कानून (असेंशियल कमोडिटी ऐक्ट) के अंतर्गत राज्य सरकारों को अब इन उत्पादों की कीमतें तय करने का हक है।

अब यदि कोई भी विक्रेता इसे एमआरपी से ज्यादा कीमत पर बेचेगा तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। असेशिंयल कमोडिटी ऐक्ट के अंतर्गत दोषी पाए जाने पर 7 साल तक की सजा, जुर्माना और दोनों का प्रावधान है। सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है कि मास्क और सैनिटाइजर की सप्लाई में कोई कमी नहीं आए। दोस्तों आपको बता दें कि स्थिति ऐसी आ गई थी कि सैनिटाइजर तथा मास्क मिल नहीं रहे थे लेकिन सरकार ने इन्हें अधिक से अधिक उत्पादन करने की अपील की है तथा साथ ही लोगों तक पहुंचाने तक की भी अपील की है। वहीं छत्तीसगढ़ सरकार ने दोनों ही कंपनी को सैनिटाइजर और मास्क बनाने का लाइसेंस भी जारी किया है।

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment