Politics

क्रिकेट का काला दिन, जब 2009 में आतंकवादियों ने खिलाड़ियों पर हमला किया

Loading...

नई दिल्ली: 3 मार्च 2009, यह एक ऐसा काला दिन है जिसे श्रीलंकाई क्रिकेटर्स कभी नहीं भूल पाएंगे। पाक दौरे पर गई श्रीलंकाई टीम दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलने वाली थी। लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि सीरीज का अंत ऐसा होगा कि अगले 10 साल तक पाकिस्तान में कोई मैच नहीं खेला जाएगा। इसका कारण श्रीलंकाई टीम पर आतंकवादी हमला था। श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर पाकिस्तान में आतंकवादियों ने हमला किया था।

श्रीलंका के सभी खिलाड़ी होटल से मैदान की ओर जा रहे थे, तभी बस में गोलियां बरसने लगीं। जब तक कोई कुछ समझ पाता, तब तक शव थे। हालांकि इस हमले में कोई खिलाड़ी नहीं मारा गया था, लेकिन छह सुरक्षाकर्मी और दो नागरिक मारे गए थे। दरअसल, श्रीलंका और पाकिस्तान के बीच दूसरा मैच लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में खेला जा रहा था। इस मैच में पहले दो दिन बिताए गए थे, जो 1 मार्च से शुरू हुए थे। लेकिन तीसरे दिन यानी 3 मार्च को, श्रीलंकाई टीम बस से होटल जा रही थी। टीम अभी आधे रास्ते तक भी नहीं पहुंची थी कि आतंकियों के एक समूह ने बस को चारों तरफ से घेर लिया।

आतंकवादियों ने बस पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी जब तक कि सुरक्षाकर्मी कुछ समझ नहीं पाए। बस में बैठे सभी क्रिकेटर्स झुक गए, फिर भी कुछ खिलाड़ी घायल हो गए। इस हमले में श्रीलंका के पांच क्रिकेटर घायल हो गए। जिसमें महेला जयवर्धने, कुमार संगकारा और अजंता मेंडिस को मामूली चोटें आईं, लेकिन थिलन समरवीरा और थरंगा परवरिताना गंभीर रूप से घायल हो गए।

यह हमला इतना खतरनाक था कि खिलाड़ियों में लंबे समय तक घबराहट थी। इसके बाद टीम में फिर से पाकिस्तान जाने का नाम नहीं ले रहा था। इस हमले के बाद, श्रीलंकाई टीम अपने दौरे को बीच में ही छोड़ कर वापस आ गई और 10 साल तक पाकिस्तान का दौरा नहीं किया।

Loading...

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment