Featured

ऑफिस ना बदले – बदले ऑफिस में अपनी दिशा बदल जायेगी आपकी दशा, वास्तु कहता है ये करो उपाय

घर ही नहीं ऑफिस की भी प्रॉब्‍लम दूर करते हैं ये उपाय

घर में कोई प्रॉब्‍लम हो तो हम झट से सारे ज्‍योत‍िषीय और वास्‍तुशास्‍त्र के उपाय कर लेते हैं। लेक‍िन ऑफिस में प्रॉब्‍लम हो तो क्‍या करना चाह‍िए? क्‍या वहां भी इन उपायों को अपनाया जा सकता है? जी हां ऐसा हो सकता है क्‍यों‍क‍ि वास्‍तु कहता है क‍ि अगर द‍िशा बदली जाए तो दशा भी बदल जाती है। तो आइए इस व‍िषय पर वास्‍तु एक्‍सपर्ट सच‍िन सब्‍यसाची से व‍िस्‍तार से जानते हैं…

इसलिए खास है ऑफिस की द‍िशा का सही होना

हम सभी घर से ज्‍यादा वक्‍त ऑफिस में ब‍िताते हैं। इसल‍िए ऑफिस की और वहां बैठने की दिशा भी सही होनी चाहिए। ध्‍यान रखें आप जहां बैठते हों वहां आपके कंधे पर खिड़की नहीं होना चाहिए। वास्‍तु के अनुसार यह अशुभ होता है। वास्‍तु के अनुसार ऑफिस के प्रमुख के बैठने की जगह पर सिर के ऊपर जाल, पीठ के पीछे और कंधे के बगल में दरवाजा या खिड़की अथवा रोशनदान, ये सभी चीजें नहीं होनी चाह‍िए।

इस स्‍थान पर नहीं होना चाह‍िए ऑफिस

वास्तुशास्‍त्र के अनुसार ऑफिस गली के ऊपर नहीं होना चाह‍िए। लेक‍िर अगर आपका ऑफिस गली के ऊपर हो तो अपने बैठने के स्‍थान का ध्‍यान रखना चाह‍िए। ध्‍यान रखें क‍ि आपके बैठने का स्‍थान ऐसी जगह न हो जहां सामने से गली द‍िखती हो। ऐसा हो तो उन्‍नत‍ि में बाधा आती है। वहीं गलियारे की सीध में बैठना भी शुभ नहीं होता।

ऑफिस में बैठने की द‍िशा का रखें व‍िशेष ध्‍यान

वास्‍तु के अनुसार अगर ऑफ‍िस में सही द‍िशा में बैठा जाए तो काफी तरक्‍की होती है। इसल‍िए ध्‍यान रखें क‍ि जब भी बैठें तो मुंह हमेशा उत्तर की तरफ होना चाहिए या फिर पूर्व की ओर। उत्तर-पूर्व में भी बैठा जा सकता है। कहा जाता है क‍ि इस द‍िशा में बैठने से पदोन्‍नत‍ि होती है।

इस द‍िशा में ऑफ‍िस होता है अशुभ

वास्तुशास्‍त्र के अनुसार ऑफिस के प्रमुख या मालिक के बैठने की जगह पर पीठ के पीछे ठोस दीवार जरूर होनी चाह‍िए। यह शुभ होता है। लेक‍िन ध्‍यान रखें क‍ि पीठ पीछे ख‍िड़की बिलकुल नहीं होनी चाह‍िए। अन्‍यथा काम में द‍िक्‍कतें आती हैं। इसके अलावा ध्‍यान रखें क‍ि ऑफिस कभी भी दक्षिण, उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, पश्चिम तथा बीच के स्थान पर बने बेसमेंट में नहीं होना चाह‍िए। यह अशुभ होता है। अगर आप नया ऑफिस बनवा रहे हैं तो इन द‍िशाओं का ध्‍यान रखें। लेक‍िन पहले से इस द‍िशा में ऑफ‍िस हो तो क‍िसी वास्‍तुशास्‍त्री की राय लेकर उपाय जरूर कर लें।

About the author

Yuvraj vyas

Leave a Comment