Featured

इस द‍िशा की ओर मुंह करके भोजन करेंगे तो होगी आयु में वृद्धि, वास्‍तु में है उल्‍लेख

Written by Yuvraj vyas

भोजन करते समय इसल‍िए ध्‍यान रखें द‍िशा का

अगर कुंडली में अचानक मृत्‍यु का दोष बनता हो या कोई हमेशा ही बीमार रहता हो तो दवाइयों के साथ ही यहां बताई गई वास्‍तुशास्‍त्र की इन बातों को अपना सकते हैं। मान्‍यता है क‍ि इससे सेहत अच्‍छी रहती है। साथ ही मारक ग्रह का भी दोष धीरे-धीरे खत्‍म होने लगता है व आयु में वृद्धि होती है। तो आइए ऐस्‍ट्रॉलजर प्रमोद पांडेय से इस व‍िषय पर व‍िस्‍तार से जानते हैं…

कुंडली में अचानक मृत्‍यु का हो भय

अगर क‍िसी की कुंडली में अचानक मृत्यु का भय हो तो उसे पूर्व दिशा की ओर मुख कर के ही खाना चाहिए। मान्‍यता है क‍ि इससे आयु बढ़ती है। व‍िशेष ध्‍यान रखें अगर कुंडली में मारक ग्रह हो तो ऐसे लोगों को हमेशा पूर्व की ओर मुख कर ही खाना चाहिए। ऐसा करने से सेहत अच्‍छी रहती है और अकाल मृत्‍यु का भय भी नहीं रहता।

अगर तब‍ियत हमेशा खराब रहती हो तो

अगर क‍िसी की तब‍ियत हमेशा खराब रहती हो या फ‍िर घर में क‍िसी का स्वास्थ्य हमेशा खराब रहता हो तो उसे पश्चिम की ओर मुख करके भोजन करना चाहिए। इससे सेहत अच्‍छी रहती है। ध्‍यान रखें क‍ि बेहतर स्वास्थ्य रोग मुक्ति के लिए पश्चिम दिशा का वास्तु में विशेष महत्व होता है। इसल‍िए वास्‍तुशास्‍त्री मरीजों को पश्चिम द‍िशा में मुंह करके खाने की सलाह देते हैं।

धन संबंधी समस्‍या हो तो इस द‍िशा में करें भोजन

वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार अगर घर में धन न ट‍िकता हो या फ‍िर सेव‍िंग्‍स न हो पा रही हो। तो हमेशा उत्तर की ओर मुख करके खाना खाना चाहिए। व‍िशेषतौर पर घर के मुखिया को हमेशा उत्तर दिशा में ही मुख कर भोजन करना चाहिए। ऐसा करने से घर में सुख-समृद्धि और धन-धान्‍य भरा रहता है।

इस द‍िशा में खाने से हावी नहीं होते नेगेट‍िव एनर्जी

वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार वैसे तो दक्षिण दिशा में मुख कर खाने की मनाही होती है। क्‍योंक‍ि ज्योतिषशास्‍त्र में दिशा सही नहीं मानी गई है। हालांकि जिन लोगों पर नेगेट‍िव एनर्जी जल्‍दी हावी हो जाती है। या फिर मन में हमेशा नकारात्‍मक शक्तियां हावी रहती हों तो माना जाता है क‍ि ऐसे लोगों पर प्रेत बाधा होती है। इससे राहत पाने के लिए दक्षिण दिशा में मुख करके भोजन करना चाह‍िए। ऐसा करने से नेगेट‍िव एनर्जी भी हावी रहती है और जीवन में कुछ भी शुभ नहीं होता।

About the author

Yuvraj vyas